भोपाल

क्या चौथी बार मुख्यमंत्री बनकर इतिहास रचेगें शिवराज

Spread the love

भोपाल-  लोकतंत्र में जिस जनता को जनार्दन कहा गया है, उसने मध्‍यप्रदेश में सत्ता की कुर्सी पर किसी भी दल के एक ही नेता को चार बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने का अवसर प्रदान नहीं किया है। इस बार यदि भाजपा को जनता ने बहुमत दिया तो शिवराज सिंह चौहान ऐसे पहले नेता होंगे, जो चौथी बार मुख्यमंत्री बनकर इतिहास रचेंगे। सन 1956 से अभी तक जनता ने कांग्रेस के 21 नेताओं को सीएम बनाया। जिसमें श्यामाचरण शुक्ल और अर्जुन सिंह ने सर्वाधिक तीन-तीन बार यह पद संभाला।

मध्‍यप्रदेश में 15वीं विधानसभा के चुनाव की शुरुआत हुई तो यह चर्चाएं भी प्रबल हुई कि, इस बार आखिर किस दल के नेता को जनता मुख्यमंत्री के रूप में चुनती है। वर्ष 1956 से अभी तक की अवधि पर गौर करें तो सबसे ज्यादा शासन कांग्रेस ने ही किया है। कांग्रेस में कई नेताओं ने मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए तीन-तीन पारियां खेली हैं, लेकिन सत्ता सिंहासन पर चौथी बार कोई नहीं बैठ पाया है।

प्रदेश की जनता ने पहली बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर रविशंकर शुक्ल को बैठाया था।

इसके बाद श्यामाचरण शुक्ल ने मध्‍यप्रदेश की सत्ता तीन बार संभाली।

अर्जुन सिंह ने भी अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल की तीन पारियां खेली हैं।

प्रदेश में कांग्रेस के ही छह नेता ऐसे भी रहे, जो दो-दो बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे। कैलाशनाथ काटजू एवं द्वारका प्रसाद मिश्र को प्रदेश की सत्ता संभालने का मौका दो बार मिला। काटजू 31 जनवरी 1957 से 14 मार्च 1957 तक प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री रहे। 14 मार्च 1957 से 11 मार्च 1962 तक उन्होंने दूसरी बार सत्ता संभाली। इसी प्रकार द्वारका प्रसाद मिश्र 1963 से 1967 तक की अवधि में दो बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। प्रकाशचंद्र सेठी 1972 से 1977 तक दो बार प्रदेश के मुख्मयंत्री रहे। मोतीलाल वोरा एवं दिग्विजय सिंह को भी जनता ने दो बार सत्ता की चाबी सौंपी। 1956 से अभी तक प्रदेश में तीन बार राष्ट्रपति शासन भी लागू हो चुका है।

मध्‍यप्रदेश में भाजपा जैसी पार्टी में सिर्फ शिवराज सिंह चौहान ही हैं, जिन्हें तीन बार मुख्यमंत्री बनने का अवसर प्राप्त हुआ है। 1980 से 1993 तक की अवधि में पहले जनता पार्टी और फिर भाजपा से सुंदरलाल पटवा मुख्यमंत्री रहे। आठ दिसम्बर 2003 से 23 अगस्त 2004 तक उमा भारती प्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं, जबकि 23 अगस्त 2004 से 29 नवंबर 2005 तक बाबूलाल गौर को मुख्यमंत्री बनाया गया। इसके बाद से शिवराज सिंह चौहान ही सत्ता संभाल रहे हैं। अब यदि इस बार पार्टी बहुमत में आती है तो शिवराज सिंह चौहान किसी भी दल के पहले ऐसे नेता होंगे, जिन्हें मध्‍यप्रदेश में चार बार मुख्यमंत्री बनने का मौका मिलेगा। इसके साथ ही आज हम आपको मध्‍यप्रदेश में अभी तक मुख्‍यमंत्री पद पर रह चुके मंत्रियों के नामों की लिस्‍ट बता रहे है जो इस प्रकार है.

रविशंकर शुक्ल १ नवम्बर १९५६ ३१ दिसम्बर १९५६ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
भगवंतराव मंडलोई १ जनवरी १९५७ ३० जनवरी १९५७ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
कैलाश नाथ काटजू ३१ जनवरी १९५७ १४ मार्च १९५७ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
कैलाश नाथ काटजू (२) १४ मार्च १९५७ ११ मार्च १९६२ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
भगवंतराव मंडलोई (२) १२ मार्च १९६२ २९ सितंबर १९६३ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
द्वारका प्रसाद मिश्रा ३० सितंबर १९६३ ८ मार्च १९६७ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
द्वारका प्रसाद मिश्रा (२) ९ मार्च १९६७ २९ जुलाई १९६७ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
गोविंद नारायण सिंह ३० जुलाई १९६७ १२ मार्च १९६९ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
नरेशचंद्र सिंह १३ मार्च १९६९ २५ मार्च १९६९ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
१० श्यामा चरण शुक्ल २६ मार्च १९६९ २८ जनवरी १९७२ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
११ प्रकाश चंद्र सेठी २९ जनवरी १९७२ २२ मार्च १९७२ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
१२ प्रकाश चंद्र सेठी (२) २३ मार्च १९७२ २२ दिसम्बर १९७५ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
१३ श्यामा चरण शुक्ल (२) २३ दिसम्बर १९७५ २९ अप्रैल १९७७ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
राष्ट्रपति शासन २९ अप्रैल १९७७ २५ जून १९७७
१४ कैलाश चंद्र जोशी २६ जून १९७७ १७ जनवरी १९७८ जनता पार्टी
१५ विरेंद्र कुमार सकलेचा १८ जनवरी १९७८ १९ जनवरी १९८० जनता पार्टी
१६ सुंदरलाल पटवा २० जनवरी १९८० १७ फ़रवरी १९८० जनता पार्टी
राष्ट्रपति शासन १८ फ़रवरी १९८० ८ जून १९८०
१७ अर्जुन सिंह ८ जून १९८० १० मार्च १९८५ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
१८ अर्जुन सिंह (२) ११ मार्च १९८५ १२ मार्च १९८५ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
१९ मोतीलाल वोरा १३ मार्च १९८५ १३ फ़रवरी १९८८ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
२० अर्जुन सिंह (३) १४ फ़रवरी १९८८ २४ जनवरी १९८९ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
२१ मोतीलाल वोरा (२) २५ जनवरी १९८९ ८ दिसम्बर १९८९ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
२२ श्यामा चरण शुक्ल (३) ९ दिसम्बर १९८९ ४ मार्च १९९० भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
२३ सुंदरलाल पटवा (२) ५ मार्च १९९० १५ दिसम्बर १९९२ भारतीय जनता पार्टी
राष्ट्रपति शासन १६ दिसम्बर १९९२ ६ दिसम्बर १९९३
२४ दिग्विजय सिंह ७ दिसम्बर १९९३ १ दिसम्बर १९९८ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
२५ दिग्विजय सिंह (२) १ दिसम्बर १९९८ ८ दिसम्बर २००३ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
२६ उमा भारती ८ दिसम्बर २००३ २३ अगस्त २००४ भारतीय जनता पार्टी
२७ बाबूलाल गौर २३ अगस्त २००४ २९ नवम्बर २००५ भारतीय जनता पार्टी
२८ शिवराज सिंह चौहान २९ नवम्बर २००५ १२ दिसम्बर २००८ भारतीय जनता पार्टी
२९ शिवराज सिंह चौहान (२) १२ दिसम्बर २००८ दिसम्बर २०१३ भारतीय जनता पार्टी
३० शिवराज सिंह चौहान (३) दिसम्बर २०१३ पदासीन भारतीय जनता पार्टी

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *