नरसिंहपुर

सीमावर्ती क्षेत्रों में सैनिकों को सहयोग करें देशवासी : राज्यपाल श्रीमती पटेल

Spread the love
राज्यपाल से सशस्त्र सीमा बल के प्रशिक्षु सहायक कमांडेंट के दल की भेंट
नरसिंहपुर, 24 जुलाई 2018. राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा है कि सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले देशवासियों का कर्तव्य है कि वह सीमा पर तैनात सैनिकों से अच्छे संबंध रखें और उन्हें सहयोग करें। सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले लोगों और सीमा पर तैनात सैनिक का बहुत घनिष्ठ संबंध होता है। दोनों को एक ही तरह की परिस्थितियों और कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने यह बात आज सशस्त्र सीमा बल के प्रशिक्षु सहायक कमांडेंट के 34 सदस्यीय दल से भेंट के दौरान कही।
राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि सीमाओं और आंतरिक क्षेत्रों में आतंकवादियों और नक्सलियों के द्वारा आधुनिक हथियारों के उपयोग तथा तरीकों से किये जा रहे हमलों से सैनिकों को बचाने के लिए सख्त उपाये करने की आवश्यकता है। आज जहां हमारी सेनाएं आधुनिक हथियारों और संचार साधनों से सम्पन्न हो रही हैं, वहीं आतंकवादी और नक्सलवादी भी आधुनिक तरीकों का उपयोग कर रहे हैं। इससे गश्त में लगे सैनिकों की जान को खतरा बना रहता है। कारगिल युद्ध और उसके बाद की बदलती परिस्थितियों में ‘विशेष सेवा ब्यूरो’ का देश की रक्षा में महत्वपूर्ण योगदान है। राज्यपाल ने कहा कि हमारे सैनिक चाहे वह बीएसएफ, सेना अथवा अन्य बलों के हों, उनके बलिदान, बहादुरी और कर्मठता के कारण ही आज हमारे देश की सेना विश्व की बड़ी सेनाओं में अपनी प्रतिष्ठा स्थापित करती जा रही है।
इस अवसर पर सशस्त्र सीमा बल अकादमी के निदेशक, श्री सुधांशु नौटियाल ने अकादमी की गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए उत्तराखंड के श्रीनगर से अविस्थत होकर भोपाल में पुन: स्थापित सशस्त्र सीमा बल अकादमी के बारे में विस्तार से जानकारी दी। कमांडेंट सशस्त्र सीमा बल अकादमी श्री डी एन भौमबे ने आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन अधिकारी प्रशिक्षु सुश्री प्रीति शर्मा ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *