नरसिंहपुर

मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा प्रसूति सहायता योजना का प्रभावी क्रियान्वयन करें- कलेक्टर

Spread the love
ritu
nn
55
88
जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक सम्पन्न
नरसिंहपुर, 21 जून 2018.
कलेक्टर अभय वर्मा ने कहा है कि मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा प्रसूति सहायता योजना राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली योजना है। इस योजना का जिले में प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जावे। मजदूर वर्ग की पात्र गरीब महिलाओं को इस योजना का लाभ तत्परता से दिलायें। जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में कलेक्टर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। स्वास्थ्य समिति की बैठक बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई।
प्रसूति सहायता योजना की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने कहा कि करेली एवं चांवरपाठा विकासखंड में अच्छा कार्य हुआ है। इसी तरह अन्य विकासखंडों में भी प्रगति लाई जावे। आगामी 15 दिन में बेहतर परिणाम मिलने चाहिये। कोई भी पात्र गरीब महिला इस योजना के लाभ से वंचित नहीं रहे।
बैठक में बताया गया कि मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा प्रसूति सहायता योजना में जिले में अब तक 771 हितग्राहियों को 72 लाख 15 हजार 600 रूपये का भुगतान किया जा चुका है।
बैठक में कलेक्टर ने परिवार कल्याण कार्यक्रम में प्रगति लाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिले में परिवार नियोजन के निर्धारित लक्ष्य समय सीमा में पूरे किये जायें। स्वास्थ्य और महिला एवं बाल विकास विभाग के मैदानी अमले का दायित्व है कि लोगों को परिवार नियोजन के महत्व के बारे में बतायें और उनकी भ्रांतियों को दूर करें। परिवार नियोजन के बारे में जागरूकता बढ़ाई जावे और लोगों को प्रेरित किया जावे। अगले माह तक इस कार्यक्रम में संतोषजनक प्रगति आनी चाहिये।
बैठक में सम्पूर्ण टीकाकरण की समीक्षा के दौरान निर्देश दिये गये कि इसमें 90 प्रतिशत से कम उपलब्धि नहीं रहनी चाहिये। हीमोग्लोबिन टेस्ट की समीक्षा में निर्देश दिये गये कि खून की कमी वाली महिलाओं और बच्चों के उपचार पर विशेष ध्यान दिया जावे। हाई रिस्क क्षेत्रों में मलेरिया नियंत्रण पर विशेष ध्यान देने पर जोर दिया गया। इस बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए कहा गया।
जिले में राष्ट्रीय कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम के तहत 76 प्रतिशत, राष्ट्रीय अंधत्व नियंत्रण कार्यक्रम के तहत आईओएल ऑपरेशन में 64 प्रतिशत, राष्ट्रीय मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम के तहत रक्त पट्टिका संग्रह में 85 प्रतिशत, संपूर्ण टीकाकरण में 62 प्रतिशत, एएनसी रजिस्ट्रेशन में 74 प्रतिशत, आरएनटीसीपी स्पुटम परीक्षण में 94 प्रतिशत और पोषण पुनर्वास केन्द्रों में मई में बेड आक्यूपेंसी में 124 प्रतिशत एवं चालू जून माह में 71 प्रतिशत उपलब्धि बैठक में बताई गई। कम उपलब्धि वाले विकासखंडों में प्रगति लाने के लिए निर्देशित किया गया।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया ने निर्देशित किया कि संक्रामक रोगों की रोकथाम के लिए काम्बेट टीमें और अतिवृष्टि व बाढ़ की स्थिति में रेपिड रिस्पांस टीम तैयार रहें। 108 एम्बुलेंस का सुचारू संचालन हो, इसमें सभी आवश्यक उपकरण अच्छी स्थिति में उपलब्ध रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *