नरसिंहपुर

बोर्ड परीक्षायें एक मार्च से, जिले में बनाये गये 83 परीक्षा केन्द्र

Spread the love

नरसिंहपुर, 23 फरवरी 2018. माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश के अंतर्गत वर्ष 2018 की बोर्ड परीक्षायें आगामी एक मार्च से शुरू होंगी। बोर्ड परीक्षाओं के लिए जिले में 83 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। हायर सेकेंडरी परीक्षा एक मार्च से तीन अप्रैल तक प्रात: 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक जिले के 65 परीक्षा केन्द्रों पर होगी। हाई स्कूल परीक्षा 5 मार्च से 31 मार्च तक प्रात: 9 बजे से 12 बजे तक जिले के 83 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जायेंगी।
जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में हायर सेकेंडरी परीक्षा में 10 हजार 897 नियमित एवं 1031 स्वाध्यायी समेत कुल 11 हजार 928 परीक्षार्थी शामिल होंगे। हाई स्कूल परीक्षा में 15 हजार 230 नियमित एवं एक हजार 55 स्वाध्यायी समेत कुल 16 हजार 285 विद्यार्थी शामिल होंगे। स्वाध्यायी परीक्षार्थियों के लिए जिला मुख्यालय पर दो परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। जिले में 3 परीक्षा केन्द्र संवेदनशील और 4 परीक्षा केन्द्र अति संवेदनशील हैं। हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी के नियमित परीक्षार्थियों के लिए प्रायोगिक परीक्षा 12 फरवरी से 26 फरवरी के मध्य आयोजित की जा रही हैं। हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी के स्वाध्यायी परीक्षार्थियों के लिए प्रायोगिक परीक्षा 7 मार्च से 31 मार्च के बीच आयोजित की जायेंगी।
प्रात: 9 बजे से प्रारंभ होने वाली परीक्षाओं में सभी परीक्षार्थियों को परीक्षा केन्द्र पर परीक्षा कक्ष में प्रात: 8.30 बजे तक उपस्थित होना होगा।
परीक्षा के 5 मिनिट पहले मिलेगा प्रश्न पत्र
बोर्ड परीक्षाओं में उत्तर लिखने के लिए परीक्षार्थियों को कोरी उत्तर पुस्तिका परीक्षा के 10 मिनिट पूर्व दी जायेगी। परीक्षार्थियों को प्रश्न पत्र परीक्षा शुरू होने के 5 मिनिट पहले मिलेगा।
परीक्षा केन्द्र पर मोबाइल रहेगा पूर्णत: प्रतिबंधित
माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश के अंतर्गत वर्ष 2018 की बोर्ड परीक्षायें आगामी एक मार्च से शुरू होंगी। बोर्ड परीक्षाओं के लिए जिले में 83 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। हायर सेकेंडरी परीक्षा एक मार्च से तीन अप्रैल तक प्रात: 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक जिले के 65 परीक्षा केन्द्रों पर होगी। हाई स्कूल परीक्षा 5 मार्च से 31 मार्च तक प्रात: 9 बजे से 12 बजे तक जिले के 83 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जायेंगी।
परीक्षा केन्द्र पर साधारण व साइंटिफिक केलकुलेटर, पेजर, सेल्युलर फोन, कम्प्यूटर का उपयोग करना एवं परीक्षा केन्द्र पर लाना पूरी तरह से वर्जित किया गया है। यदि किसी परीक्षार्थी के पास परीक्षा केन्द्र में स्विच ऑफ स्थिति में भी मोबाइल फोन पाया जाता है, तो इसे अनुचित साधन का प्रकरण माना जायेगा।
परीक्षा में अनुचित साधनों पर होगी कार्रवाई
माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश के अंतर्गत वर्ष 2018 की बोर्ड परीक्षायें आगामी एक मार्च से शुरू होंगी। बोर्ड परीक्षाओं के लिए जिले में 83 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। हायर सेकेंडरी परीक्षा एक मार्च से तीन अप्रैल तक प्रात: 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक जिले के 65 परीक्षा केन्द्रों पर होगी। हाई स्कूल परीक्षा 5 मार्च से 31 मार्च तक प्रात: 9 बजे से 12 बजे तक जिले के 83 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जायेंगी।
परीक्षा में अनुचित साधन का उपयोग करने वालों के विरूद्ध मध्यप्रदेश मान्यता प्राप्त परीक्षा अधिनियम 1937 के प्रावधानों के अनुसार कार्रवाई की जायेगी। परीक्षा केन्द्र पर अनुचित साधन अपनाने वाले छात्र की अनुचित सामग्री पर केन्द्राध्यक्ष की पदमुद्रा एवं हस्ताक्षर तथा छात्र का रोल नम्बर दर्ज करना एवं हस्ताक्षर करना अनिवार्य होगा।
परीक्षा केन्द्रों पर अनुचित साधन रोकने के लिए रहेगी कड़ी निरीक्षण व्यवस्था
माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश के अंतर्गत वर्ष 2018 की बोर्ड परीक्षायें आगामी एक मार्च से शुरू होंगी। बोर्ड परीक्षाओं के लिए जिले में 83 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। हायर सेकेंडरी परीक्षा एक मार्च से तीन अप्रैल तक प्रात: 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक जिले के 65 परीक्षा केन्द्रों पर होगी। हाई स्कूल परीक्षा 5 मार्च से 31 मार्च तक प्रात: 9 बजे से 12 बजे तक जिले के 83 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जायेंगी।
परीक्षा केन्द्रों पर अनुचित साधन रोकने के लिए कड़ी निरीक्षण व्यवस्था की गई है। माध्यमिक शिक्षा मंडल, आयुक्त लोक शिक्षण, आयुक्त आदिवासी विकास, जिला कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, संयुक्त संचालक लोक शिक्षण एवं जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा अलग- अलग निरीक्षण दलों का गठन कर परीक्षा केन्द्रों के सतत निरीक्षण की व्यवस्था की गई है। परीक्षा केन्द्रों पर सतत निगरानी के लिए आवश्यकतानुसार उड़नदस्तों का भी गठन किया गया है।
उड़नदस्तों में माध्यमिक शिक्षा मंडल, आयुक्त लोक शिक्षण, आयुक्त आदिवासी विकास, जिला कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत एवं जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा नियुक्त अधिकारी रहेंगे। जिन केन्द्रों पर नकल या अनियमितता की शिकायतें प्राप्त होंगी, उनकी विशेष जांच कराकर संस्था की मान्यता/ परीक्षा केन्द्र समाप्त करने की कार्रवाई की जायेगी। अनुचित साधन के उपयोग में सहयोग करने वाले और शामिल होने वालों के विरूद्ध भी कड़ी कार्रवाई की जायेगी।
‘बोर्ड परीक्षा 2018’ परीक्षा संचालन में नियुक्त व्यक्तियों की सेवायें अत्यावश्यक घोषित
राज्य शासन द्वारा वर्ष 2018 की बोर्ड परीक्षाओं के संबंध में अधिसूचना जारी कर माध्यमिक शिक्षा मंडल की परीक्षाओं से संबंधित सभी कार्यों के लिए नियुक्त किये गये व्यक्तियों की सेवाओं को अत्यावश्यक घोषित कर दिया गया है।
उक्त अधिसूचना के तहत तीन माह की अवधि के लिए मंडल परीक्षाओं में अपेक्षित किसी भी प्रकार के कत्र्तव्य की अवहेलना करने पर ऐसे व्यक्ति दंड के भागी होंगे।
उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश अत्यावश्यक सेवा संधारण तथा विच्छिन्नता निवारण अधिनियम 1979 के प्रावधानों के तहत प्रति वर्ष अधिसूचना जारी कर राज्य शासन द्वारा परीक्षा संचालन में नियुक्त व्यक्तियों की सेवायें अत्यावश्यक घोषित की जाती हैं।
बोर्ड परीक्षाओं के केन्द्राध्यक्ष के अधिकार
माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश के अंतर्गत वर्ष 2018 की बोर्ड परीक्षायें आगामी एक मार्च से शुरू होंगी। बोर्ड परीक्षाओं के लिए जिले में 83 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। हायर सेकेंडरी परीक्षा एक मार्च से तीन अप्रैल तक प्रात: 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक जिले के 65 परीक्षा केन्द्रों पर होगी। हाई स्कूल परीक्षा 5 मार्च से 31 मार्च तक प्रात: 9 बजे से 12 बजे तक जिले के 83 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जायेंगी।
बोर्ड परीक्षाओं के परीक्षा केन्द्र के केन्द्राध्यक्ष एवं सहायक केन्द्राध्यक्षों को परीक्षा के दिन सुबह 9 बजे से शुरू होने वाली परीक्षा में छात्रों को परीक्षा कक्ष में प्रात: 8.45 बजे तक प्रवेश देने का अधिकार होगा। परीक्षा प्रारंभ होने के 15 मिनिट बाद किसी भी छात्र को परीक्षा में सम्मिलित नहीं कराया जायेगा। यदि छात्र प्रात: 8.45 बजे के बाद उपस्थित होता है, तो उसे परीक्षा में सम्मिलित नहीं कराये जाने का अधिकार केन्द्राध्यक्ष/ सहायक केन्द्राध्यक्ष को होगा। केन्द्राध्यक्ष/ सहायक केन्द्राध्यक्ष को परीक्षा केन्द्र पर नियुक्त संदेहास्पद कर्मियों की ड्यूटी निरस्त करने और पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाने का अधिकार होगा।
परीक्षा में गोपनीयता एवं पवित्रता सुनिश्चित करने के लिए केन्द्राध्यक्ष का कत्र्तव्य होगा कि वे स्वयं अथवा सहायक केन्द्राध्यक्ष ही प्रश्न- पत्र लाने का कार्य पूरी सतर्कता एवं एहतियात बरतते हुए करें। इसी प्रकार परीक्षा के पश्चात उत्तर पुस्तिका निर्धारित स्थान पर जमा करने का कार्य भी केन्द्राध्यक्ष अथवा सहायक केन्द्राध्यक्ष पूरी सतर्कता एवं एहतियात बरतते हुए करेंगे। केन्द्राध्यक्ष/ सहायक केन्द्राध्यक्ष की जिम्मेदारी होगी कि वे निर्धारित समय पर परीक्षा प्रारंभ करायें। पर्यवेक्षकगण पर्यवेक्षण का कार्य ठीक ढंग से कर रहे हैं या नहीं, इस पर निगरानी रखेंगे। साथ ही नियमानुसार परीक्षा सम्पन्न होने के पश्चात उत्तर पुस्तिकाओं को निर्धारित स्थान पर सुरक्षित रूप से जमा करेंगे।
नकल रोकने में तलाशी का काम कड़ाई से किया जायेगा। किसी भी परीक्षा केन्द्र पर परीक्षार्थी को दो घंटे होने के पहले परीक्षा केन्द्र से बाहर नहीं जाने दिया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *