जबलपुर

अब टीटीई होंगे स्मार्ट, बदलेगी ड्रेस

Spread the love

जबलपुर. भारतीय रेलवे यात्रियों से सीधे सम्पर्क में आने वाले अपने टिकट चैकिंग स्टाफ को स्मार्ट करने जा रहा है, इसके तहत वह उनके ड्रेस में व्यापक बदलाव करने की तैयारी में है. फिलहाल यह बदलाव देश की राजधानी, शताब्दी एक्सप्रेस में तैनात स्टाफ में किया गया है, जो सभी ट्रेनों में लागू किया जायेगा. बताया जाता है कि रेलवे की योजना है कि अगले साल 2018 की शुरुआत से टिकट चैकिंग स्टाफ को पुरानी परम्परागत ड्रेस से निजात दिलाई जाए, काले कोट, पेंट का रंग बदल दिया जाए. उसके स्थान पर ग्रे कलर के पेंट और कोट होगा. साथ ही उनकी ड्रेस में ऐसे संकेत लगाये जाएं, जिससे उनके पद व वरिष्ठता का पता यात्री लगा सके.

नए बदलाव में टीटीर्ई जो शर्ट पहनेंगे, उसमें दोनों कंधों पर पट्टी भी लगी होगी, यह पट्टी अभी राजधानी, शताब्दी ट्रेनों में तैनात स्टाफ के ड्रेस में लगाई गई है. ट्रेन अधीक्षक व उपाधीक्षक का भी यही ड्रेस कोड होगा, लेकिन अधीक्षक के कोट के कंधों पर गोल्डन रंग की तीन और उपाधीक्षक के कोट पर दो पट्टियां लगी रहेंगी. टाई का रंग पहले की तरह लाल रहेगा. टीटीई के कोट पर किसी तरह की पट्टी नहीं रहेगी.

शुरुआत में यह ड्रेस स्पेशल, राजधानी, शताब्दी और दूरंतो एक्सप्रेस में ही लागू होगी. कुछ ही समय बाद सभी ट्रेनों में नया ड्रेस कोड लागू कर दिया जाएगा. रेलवे बोर्ड ने बदलाव के दिये हैं रेल जोनों को निर्देश रेलवे बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे को पत्र जारी कर नए साल से नया ड्रेस कोड लागू कराने को कहा है. रेलवे बोर्ड के अधिकारियों में काफी दिनों से टिकट निरीक्षकों के ड्रेस में बदलाव करने की चर्चा चल रही थी.

पिछले दिनों कार्यकारी निदेशक ईआर, कार्यकारी निदेशक आइआर एवं कार्यकारी निदेशक वित्त की संयुक्त कमेटी बनाकर नए ड्रेस के डिजाइन पर चर्चा की गई थी. इसके बाद कमेटी ने नए ड्रेस कोड लागू करने की मंजूरी दे दी. ट्रेन सुप्रीनटेंडेंट और सीटीआई दिखेंगे अलग ट्रेनों के सुप्रीनटेंडेंट को सफेद फुल शर्ट, ग्रे पैंट-कोट के साथ ही लाल टाई पहननी होगी. टाई में रेल का लोगो भी लगा होगा.

कोट के कंधे पर पुलिस वालों की तर्ज पर गोल्डेन स्ट्रिप लगी होगी. सीटीआई के लिए दो स्ट्राइप होंगी. पैंट के दाहिनी तरफ भी सुनहरी स्ट्रिप लगी होगी. गर्मी के दिनों में कोट के विकल्प के रूप में वेस्ट कोट बनवाना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *